Badagaon Dhasan

A Town Near District Tikamgarh



बडागांव (धसान) टीकमगढ़ जिले के पास एक कस्बा और नगर परिषद है जोकि मध्यप्रदेश राज्य के टीकमगढ़ जिले मे स्थित है
बडागांव (धसान) ,मध्य प्रदेश के पूर्वी क्षेत्र धसान नदी के पास, बुंदेलखंड पठार के उत्तरी किनारे पर स्थित है | जिसकी ग्लोब पर स्थिति 24°34′6″ उत्तरी अक्षांश 79°1′5″ पूर्वी देशांतर है |

बेबसाइट : http://www.badagaondhasan.com

This is an example of a HTML caption with a link.


Login Here



अच्छे विचार

"साधारण दिखने वाले लोग ही दुनिया के सबसे अच्छे लोग होते हैं : यही वजह है कि भगवान ऐसे बहुत से लोगों का निर्माण करते हैं "

    Abraham Lincoln अब्राहम लिंकन

"मैंने ये जाना है कि डर का ना होना साहस नही है, बल्कि डर पर विजय पाना साहस है बहादुर वह नहीं है जो भयभीत नहीं होता , बल्कि वह है जो इस भय को परास्त करता है "

    Nelson Mandela नेल्सन मंडेला


उद्देश्य

निम्नलिखित लक्ष्यों के लिए अग्रसर

१. बडागांव को तहसील का दर्जा दिलाना

२. धौरीगढ़ किले का जीर्णोधार और इसे पर्यटन हेतु उपलब्ध कराना

३. कस्बे हेतु इंग्लिश मीडियम हायर सेकेंडरी स्कूल और डिग्री कॉलेज

४. कस्बे में जीव संरक्षण हेतु गौशाला

Back to Top

बडागांव धसान



भौगोलिक स्थिति

औसत समुद्र तल से ऊँचाई - 319 मीटर( 1046 फीट)

बडागांव, टीकमगढ़ सागर रोड पर, टीकमगढ़ से 29 किमी और सागर से 100 किमी की दूरी पर स्थित है |

बड़ागाँव क्षेत्र का सांस्कृतिक वैभव (इतिहास)

चंदेलकाल में चंदेलराज्य बुंदेलखंड विकसित राज्य था । लोगो की धार्मिक आस्थानुरूप तालाबों के घाटो और नदियों के किनारे तथा सिद्ध संतो महंतो की गुफाओ, खोहो के पास मठों मंदिरों का निर्माण कराकर सांस्कृतिक विकास किया।      और पढ़ें

जनसांख्यकी

2011 की जनसंख्या गणना के अनुसार

जनसंख्या - 18584

पुरुष - 52 फीसदी, महिलाएं - 48 फीसदी

साक्षरता दर - 84% है, जोकि भारत की साक्षरता दर 74.04 % से कहीं ज्यादा है, जिसमे 89 % पुरुष और 71% महिलाएं साक्षर हैं | 60 फीसदी जनसंख्या 25 वर्ष से कम की है |

जलवायु

बडागांव एक ऊष्ण कटिबंधीय गीला और शुष्क क्षेत्र है |

यहाँ तीन अलग- अलग ऋतुएं पाई जाती है, ग्रीष्म, शरद, और बरसात | ग्रीष्म ऋतु मार्च के बीच में शुरू होती है और अप्रैल एवं मई के दौरान बहुत ही गर्म हो सकती है | यहाँ उच्चतम तापमान 1994 में दर्ज किया गया था जोकि 48 डिग्री सेल्सियस था | औसत गर्मियों का तापमान 42 - 44 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है | यहाँ नमी बहुत ही कम पाई जाती है |

मानसून का मौसम जून में देर से 26 डिग्री सेल्सियस के आसपास औसत तापमान, निरंतर मूसलाधार बारिश और उच्च नमी के साथ शुरू होता है | यहाँ औसत बर्षा 32 इंच है |

सर्दियों का मौसम नबम्बर के मध्य में शुरू होता है | सर्दियाँ सूखी, नरम और उजली होती है | सर्दियों में औसत तापमान 4 - 15 डिग्री सेल्सियस होता है | लेकिन सर्द रातों में यह हिमांक(freezing point) के करीब गिर सकता है |

गर्मियों में तापमान 48 - 50 डिग्री सेल्सियस तक हो सकता है तो वही सर्दियों में 2 डिग्री सेल्सियस तक भी हो सकता है |

यातायात

बडागांव, प्रदेश के दूसरे भागों से, राष्ट्रीय व प्रदेश हाईवे से अच्छे से जुड़ा है | झाँसी, ललितपुर, सागर, भोपाल, इंदौर, जबलपुर, दमोह और टीकमगढ़ के लिए बस सर्विस और निजी वाहन आसानी से उपलब्ध है|

रेलवे यातायात के साधन टीकमगढ़, झाँसी, ललितपुर, सागर में उपलब्ध हैं|

हवाई यातायात के माध्यम खजुराहो(120 किमी), भोपाल(269 किमी), इंदौर, ग्वालियर में उपलब्ध है |

प्रमुख त्यौहार

सभी राष्टीय त्यौहार जैसे होली, हनुमान जयंती, महावीर जयंती, वैसाखी, रक्षाबंधन, गणेश उत्सव, नवरात्री, दशहरा, दीवाली, रमजान और ईद पूरे उत्साह से साथ यहाँ मनाये जाते है |

इन सभी त्योहारों के अलावा जैन समुदाय 10 दिन का पर्युषण पर्व भी मनाता है |

पर्यटन

धौरीगढ़ किला :

बडागांव के धौरीगढ़ दुर्ग का निर्माण सन् 1787 के लगभग ओरछा के महाराज विक्रमजीत सिंह ने कराया था |      और पढ़ें

जैन मंदिर :

यहाँ भगवान आदिनाथ कि विशाल प्रतिमा है, जो यहाँ के पर्यटन में चार चाँद लगता है, एक चौबीसी मंदिर है, जिसमे पूरे २४ तीर्थंकरों की ५ फीट की प्रतिमा हैं । और इसके अलावा ७ वेदियां और भी हैं |      और पढ़ें

हनुमान मंदिर :

बजरंग बली की प्रतिमा खडगासन में है, जो अपने आप में अद्वितीय संरचना है | इस प्रतिमा का एक चरण ऊपर और एक जमींन के नीचे है जो अपने आप में एक अनुपम स्थिति है |   और पढ़ें

धनुषधारी मंदिर :

किला एवं जैन मंदिर के मध्य नगर में महाराजा विक्रमाजीत सिंह के समय निर्मित धनुषधारी भगवान राम का भव्य मंदिर है, जो वैष्णव जनों की धार्मिक सांस्कृतिक गतिविधियों का मुख्य केंद्र है |      और पढ़ें

भद्र काली मंदिर :

यह मंदिर बस स्टैंड के पास पहाड़ी पर स्थित है, जहाँ भद्रकाली देवी विराजमान है | समय के साथ हुए बदलाव में यहाँ दो मंदिर और बन गये, जिसमे पहला मंदिर शनि देव का है और दूसरा मंदिर तीन भगवानों से सुसज्जित है, इस मंदिर में शिव जी, साईं बाबा, और विष्णुजी विराजमान है|      और पढ़ें

शिवमठ :

मठ पूर्वाभिमुखी एवं शिखर युक्त है | गर्भगृह वर्गाकार है जिसके मध्य में जरायु में शिवलिंग स्थापित है |      और पढ़ें

नरसिंह मंदिर , हरदोल व एक शिव मंदिर मैन मार्केट में वार्ड नंबर 9 में स्थित है, जो भी पर्यटन की द्रष्टि से महत्वपूर्ण है|

मस्जिद

बडागांव धसान में हिन्दू और जैन समुदाय के अलावा मुस्लिम समुदाय भी एक बड़ी संख्या में रहता है | और जाहिर सी बात है यहाँ एक नही बल्कि दो मस्जिद (शाही जामा मस्जिद और जामा मस्जिद), ईदगाह मस्जिद, और दो मजार भी हैं, जो मुस्लिम संप्रदाय के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है|      और पढ़ें

Back to Top